Site icon

बालिका शिक्षा, कुपोषण, पानी, स्वच्छता जैसे विभिन्न सामाजिक मुद्दों पर जागरूकता पैदा करने के लिए 2 मिनट की लघु फिल्मों की वर्चुअल स्क्रीनिंग के माध्यम से एक अनूठा शैक्षिक कार्यक्रम आयोजित किया गया।

जयपुर, अगस्त 12,2021।

जयपुर स्थित मीडिया एडवोकेसी संगठन लोक संवाद संस्थान ने यूनिसेफ के सहयोग से एपीजे इंस्टीट्यूट ऑफ मास कम्युनिकेशन (एआईएमसी) के साथ मिलकर बालिका शिक्षा, कुपोषण, पानी, स्वच्छता जैसे विभिन्न सामाजिक मुद्दों पर जागरूकता पैदा करने के लिए 2 मिनट की लघु फिल्मों की वर्चुअल स्क्रीनिंग के माध्यम से एक अनूठा शैक्षिक कार्यक्रम का प्रस्तुतिकरण किया गया। पांच विषयगत सामाजिक मुद्दों पर तीन महीने की इस अनूठी ऑडियो-विजुअल परियोजना का कियांवन हुआ ।

इन फिल्मों का पूर्वावलोकन वर्चुअल प्रस्तुति के दौरान एक विशेषज्ञ पैनल के समक्ष प्रस्तुत किया गया । कोरोना महामारी के बावजूद; इस परियोजना में देश के विभिन्न हिस्सों से 42 छात्रों के सभी पांच समूहों ने भाग लिया। इन पांच समूहों ने लगातार अपनी फिल्मों को अंतिम रूप देने के लिए सलाहकारों और विशेषज्ञों के साथ काम किया, विशेषज्ञों द्वारा उनकी सामग्री और प्रस्तुति तकनीक के लिए दो मिनट की छोटी अवधि में अत्यधिक सराहना की गई।

इन पांच लघु फिल्मों की समीक्षा यूनिसेफ-राजस्थान के कम्युनिकेशन विशेषज्ञ श्री अंकुश सिंह, एपीजे इंस्टीट्यूट ऑफ मास कम्युनिकेशन के निदेशक प्रो सजल मुखर्जी, प्रो.के.बी.कोठारी- प्रथम के मैनेजिंग ट्रस्टी, उद्योग के बाहरी सलाहकार श्री सौरभ दास गुप्ता (पूर्व एनसीडी, इनोसीन वर्ल्डवाइड), प्रोफेसर अशोक ओगरा- सलाहकार (एआईएमसी), मेंटर पीजूष दत्ता, कल्याण सिंह कोठारी- सचिव लोक संवाद संस्थान, कुलदीप कोठारी- रूपायन संस्थान और अरना झरना जोधपुर के रेगिस्तान संग्रहालय के सचिव, डॉ. जया श्रीवास्तव, डॉ. राजीव के पांडा, प्रोफेसर नवीन गुप्ता द्वारा की गई।

त्रिसरोट्टा दत्ता, शिवांगी अग्रवाल, ऋष सैनी, खुशगरा तोमर, अनंत सेठ के नेतृत्व में पांच समूहों के पांच विषयों में चित्रित किया ।

टीम लिंटाजेन ने दर्शाया की भारत में बाल शोषण एक बड़ी समस्या है, इसलिए, यह अत्यंत महत्वपूर्ण है कि माँ सतर्क रहें और सुनिश्चित करें कि बच्चा ऐसे लोगो के संपर्क मे ना आये जिससे उसको नुकसान पहुंचे क्योंकि यह अपरिवर्तनीय आघात का कारण बन सकता है।

टीम वंडरमैन ने एक माँ और बच्चे के बीच संबंध के बारे में बताया की कैसे एक परिवार यौन शोषण और दुर्व्यवहार के खिलाफ आवाज उठाने और लड़ने के लिए मुख्य स्तंभ बन जाता है

टीम एडेलमैन इन्फिनिटी ने बताया की कैसे सभी बढ़ते बच्चो के लिए घर का खाना मेहत्त्वपूर्ण है। अवधारणा की कि टीम ओगिलज़ी के लिए घर का खाना कैसे महत्वपूर्ण है।

वही टीम ओगिलजी ने अपनी फिल्म पर उकेरा कि कैसे 21 वीं सदी में लड़कियों को उपलब्धियों से वंचित रखा और उनसे नफरत की गई, कई देशों द्वारा संवैधानिक प्रावधानों के रूप में सामाजिक न्याय, गरिमा और लैंगिक समानता की गारंटी दिए जाने के बावजूद महिलाए अभी भी दुनिया भर में अपने अधिकारों का आनंद लेने में सक्षम नहीं हैं।

टीम विज़िन ने जल स्वच्छता की कहानी को चित्रित किया।

विशेषज्ञों ने टिप्पणी की कि एआईएमसी की पांच टीमों द्वारा इस तरह की अद्भुत रचना सामाजिक मुद्दों पर जागरूकता के लिए एक बड़ा योगदान है।

कल्याण सिंह कोठारी
सचिव लोक संवाद संस्थान
9414047744

Exit mobile version