News Ticker

कोविसर्व से होगा कोविड-19 के पीड़ित परिवारों का सशक्तिकरण

Koviserv will empower Kovid-19 affected families


कौशल विकास और रोजगार के जरिए बनेंगे आत्मनिर्भर

जयपुर, 11 मई।
सामाजिक सरोकारों में संलग्न जयपुर के अग्रणी संगठन प्राणधारिण ट्रस्ट ने कोरोना वायरस से जनित वैश्विक महामारी कोविड-19 से मरने वाले व्यक्तियों के प्रभावित परिवारों के सशक्तिकरण का कार्य शुरू किया है। कोविसर्व नाम से आरम्भ की गई इस अभिनव पहल के जरिए संपूर्ण भारत में उन परिवारों को चयनित कर स्किल बेस्ड रोजगार के लिए तैयार किया जाएगा जिनमें परिवार के मुखिया या रोजगाररत व्यक्ति की अकाल मृत्यु हो गई है। उन परिवारों में अगर 18 वर्ष से कम उम्र के बच्चे हैं, तो उनकी भी शिक्षा की जिम्मेदारी ली जावेगी। ये जानकारी ट्रस्ट के फाउंडर डॉ. संजीव दास ने आज वर्चुअल प्रेस कांफ्रेंस में दी।

उन्होंने बताया कि कोविसर्व योजना के आवेदन-पत्र को प्राण ऐप से डाउनलोड करके ऑनलाइन सबमिट कर सकते हैं या हार्ड कॉपी में भी जमा करवा सकते हैं। फ़ॉर्म भरने का काम मृतक परिवार के सदस्य, रिश्तेदार या समाजसेवी भी कर सकते हैं।

उन्होंने कहा कि केंद्र और राज्य सरकारों का पूरा फोकस अभी वायरस के प्रकोप को रोकने के लिए वैक्सीन, कोविड प्रोटोकॉल के साथ
आंशिक और पूर्ण लॉकडाउन पर है जिससे इस वायरस की चेन तोड़ने के साथ बड़ी जनहानि को रोका जा सके। लेकिन आने वाले समय में इसके सामाजिक-आर्थिक दुष्परिणाम बहुत चिंताजनक हो सकते हैं जो सामाजिक संरचना के लिए बहुत ही घातक साबित होगा।

डॉ. दास ने 2019 की एनसीआरबी की क्राइम रिपोर्ट का उल्लेख कर बताया कि पहले से बढ़ रहे अपराधों के ग्राफ में महामारी के साइड इफेक्ट्स आग में घी का काम करेंगे जिसमें मृतक के आश्रितों के समक्ष गरिमामय जीवन और उचित पोषण की चुनौती तो है ही, साथ में स्कूल ड्रॉप आउट्स बढ़ने, रोजगार के बेहतर अवसरों की कमी उन्हें सस्ते श्रम, वेश्यावृत्ति, बाल तस्करी, भिक्षावृत्ति और लूट आदि अनेक अपराधों की तरफ धकेल सकती है। इसलिये इस ओर समय रहते कारगर कदम उठाने की बहुत आवश्यकता है।

गौरतलब है कि कोविसर्व योजना के माध्यम से रजिस्टर्ड होने वाले व्यक्ति के परिवार की समीक्षा कर उसके आर्थिक सशक्तिकरण का प्रयास किया जाएगा। इस संबंध में सामाजिक न्याय तथा महिला एवं बाल विकास से संबंधित केंद्रीय सचिव के साथ ही सभी राज्यों के प्रमुख सचिवों को विशेष पत्र भिजवा दिए हैं ताकि सुनियोजित तरीके से उन परिवारों को आत्मनिर्भर बनाने में सहयोग किया जा सके।

डॉ. संजय मिश्रा
मीडिया कोऑर्डिनेटर
प्राणधारिण ट्रस्ट
जयपुर
9829558069/ 8619860354
dr.sanjay.jpr@gmail.com

%d bloggers like this: