News Ticker

Webinar – Reporting in time of Covid-19

कोरोना काल में मीडिया बच्चों व महिलाओं के प्रति अधिक संवेदनशील बने

जयपुर, 16 अक्टूबर। प्रख्यात मीडियाकर्मियो और शिक्षाविदों के साथ “रिपोर्टिंग इन द टाइम्स ऑफ कोविड-19” पर आज एक राष्ट्रीय वेबिनार का आयोजन यूनिसेफ-राजस्थान की ओर से किया गया । इस आयोजन में जयपुर के मीडिया एडवोकेसी स्वयंसेवी संगठन लोक संवाद संस्थान और मीडिया त्रैमासिक कम्यूनिकेशन टुडे भी सहभागी थे। वेबिनार के प्रारंभ में यूनिसेफ राजस्थान की प्रमुख इसाबेल बर्देम ने राज्य की कमजोर आबादी की स्थितियों को उजागर करने के लिए मीडियाकर्मियों अपेक्षा की कि वे इस महामारी के हानिकारक प्रभावों को संवेदनशीलता के साथ उजागर करें। यह महामारी गरीब देशों में बच्चों और महिलाओं के साथ ही वंचित या कमजोर स्थितियों में रहने वाले लोगों के लिए अधिक हानिकारक है। राज्य के संदर्भ में सामाजिक और आर्थिक रूप से कमजोर पृष्ठभूमि वाले बच्चों और उनके परिवारों और दूरदराज के आदिवासी और रेगिस्तानी स्थानों में रहने वाले लोगों के जोखिम में होने की आंशका ज्यादा है। उन्होंने मीडियाकर्मियों से अपनी खबरों के माध्यम से कोविड-19 के खिलाफ फर्जी खबरों से लड़ने और कलंक और भेदभाव को खत्म करने में मदद करने का अनुरोध किया।

राजस्थान विश्वविद्यालय के संचार केंद्र के पूर्व अध्यक्ष प्रो संजीव भानावत ने महिलाओं और बच्चों के संदर्भ में मीडिया की भूमिका को रेखांकित करते हुए मीडिया से अपेक्षा की कि वह कोरोना काल में बच्चों और महिलाओं के मनोबल को बनाए रखने के लिए विशेष प्रयास करे।

कोरोना से ठीक हो चुकी वरिष्ठ न्यूज़ एंकर श्वेता झा ने मीडिया की सकारात्मक और प्रभावी भूमिका की चर्चा करते हुए कहा कि इस महामारी से संघर्ष करने में हमें अपनी जीवनशैली को भी बदलना होगा क्योंकि स्वास्थ्य ही सब कुछ है। वरिष्ठ टीवी पत्रकार मनोज माथुर ने कोविड से प्रभावित व्यक्तियों के प्रति संवेदनशील व्यवहार बनाए रखते हुए नकारात्मक चिंतन से उबरने का आह्वान किया।
भारतीय जनसंचार संस्थान की ढेंकानाल शाखा के निदेशक डॉ मृणाल चटर्जी ने पत्रकारों के साथ-साथ मीडिया के सामने आने वाली चुनौतियों का ध्यान रखते हुए पत्रकारों के लिए व्यक्तिगत सुरक्षा पर बात की।
द प्रिंट हिंदी, दिल्ली की संपादक रेणु एजल ने कहा की सत्यापित तथ्य, शोध और निष्पक्षता ही हमारी खबरो का एक मात्र आधार है, और यही सार्थक पत्रकारिता के लिए जरूरी है।

लोक संवाद संस्थान के सचिव श्री कल्याण सिंह कोठारी ने वेबिनार मे मीडियाकर्मियों को फिल्ड में समाचारों को कवर करने के करने के लिए सुरक्षा संबंधी उपायों पर चर्चा की।

यूनिसेफ राजस्थान के संचार विशेषज्ञ अंकुश सिंह ने‌ धन्यवाद ज्ञापित किया जबकि वेबिनार का संचालन एसएमपी गर्ल्स पीजी कॉलेज, मेरठ की अंग्रेजी विभाग की सहायक प्रोफेसर डॉ उषा साहनी ने किया।

कल्याण सिंह कोठारी
मीडिया सलाहकार।
%d bloggers like this: