News Ticker

दो दिवसीय वर्चुअल स्ट्रीमिंग

भारत की अमूर्त सांस्कृतिक विरासत और विविध सांस्कृतिक परंपराओं” की सुरक्षा के लिए 9-10 अंतर्राष्ट्रीय स्वदेशी दिवस को आयोजन किया जा रहा है।

“भारत की अमूर्त सांस्कृतिक विरासत और विविध सांस्कृतिक परंपराओं” की सुरक्षा के लिए इन्फोटेनमेंट एजुकेशनल इवेंट की दो दिवसीय वर्चुअल स्ट्रीमिंग 9-10 अगस्त को जोधपुर के डेसर्ड म्यूजियम अरना झरना से एक वेबिनार के माध्यम से आयोजित की जाएगी। अंतर्राष्ट्रीय स्वदेशी दिवस के अवसर पर, लोक संवाद संस्थान, जयपुर और रूपायन संस्थान जोधपुर और राष्ट्रीय स्तर पर प्रतिष्ठित विश्वविद्यालयों और संस्थानों को संयुक्त रूप से कहानी, प्रदर्शन कला और शिल्प जैसी गतिविधियों के माध्यम से स्वदेशी समुदाय की पारंपरिक कला एवं कौशल के संरक्षण, एवं जागरूकता बढ़ाने और स्वदेशी लोगों की जरूरतों और चिंताओं को दूर करने के लिए इस कार्यक्रम को आयोजित किया जा रहा है।

लोक संवाद संस्थान के सचिव श्री कल्याण सिंह कोठारी ने बताया कि सांस्कृतिक क्षेत्र सहित लगभग सभी क्षेत्रों में COVID-19 का प्रभाव महसूस किया जा रहा है। सांस्कृतिक कार्यक्रम रद्द होने, पर्यटन एवं सांस्कृतिक संस्थान बंद होने से सामुदायिक सांस्कृतिक कलाकारों पर गहरा प्रभाव पडा है। मौखिक परंपराओं, प्रदर्शन कला, स्थानीय ज्ञान और पारंपरिक कौशल की हमारी विरासत एक विकट स्थिति में हैं।

स्थिरता के चार स्तंभ; समावेशी संग्रहालय; अमूर्त विरासत; पर्यटन और संस्कृति विशेषज्ञ इस विषय पर चर्चा करेंगे। जिसमे डॉ। अमरेश्वर गल्ला, प्रोफेसर ऑफ इंक्लूसिव कल्चरल लीडरशिप एवं डायरेक्टर, इंटरनेशनल सेंटर फॉर इंक्लूसिव कल्चरल लीडरशिप,( आईसीआईसीएल), अनंत नेशनल यूनिवर्सिटी (अनंत यु), अहमदाबाद; डायरेक्टर, इंटरनेशनल इंस्टीट्यूट फॉर इनक्लूसिव म्यूज़ियम और यूनेस्को के हेरिटेज विशेषज्ञ बताएंगे कि कैसे “संस्कृति और विशेष रूप से अमूर्त या जीवित संस्कृति विकास संबंधी पहलु में एक चालक हो सकती है”। उन्होंने टिप्पणी की कि “इस महामारी के बाद पारंपरिक कला ही एक ऐसा माध्यम है जिससे हमारी संस्कृति का पुनर्वास सबसे सार्थक तरीके से किया जा सकता हैं, इसी के सहारे स्वदेशी विरासत को सम्मानित और पुनर्जीवित किया जा सकता है।”

संयुक्त रूप से इस दो दिवसीय कार्यक्रम का आयोजन कर रहे हैं।

  • इंटरनेशनल सेंटर फॉर इंक्लूसिव कल्चरल लीडरशिप, अनंत नेशनल यूनिवर्सिटी, अहमदाबाद, इंडिया
  • इंटरनेशनल इंस्टिटूट फॉर द  इंक्लूसिव म्यूज़ियम, ऑस्ट्रेलिया/इंडिया/यूएसए
  • UNITWIN- यूनेस्को नेटवर्क – टूरिस्म, कल्चर एंड डवलपमेंट्, यूनिवर्सिटी पेरिस 1 पेनथियोन् -सोर्बोनी
  • सेंटर फ़ॉर इनटैनजिबल हेरिटेज स्टडीज, श्री संकरचार्य यूनिवर्सिटी ऑफ संस्कृति, कलडी, केरला
  • लोक संवाद संस्थान (जयपुर स्थित मीडिया एवोकेसी एंजिओ)
  • रूपायन संस्थान, जोधपुर; अर्चीवस् एंड रिसर्च सेंटर फॉर ऐंथोमुसिकोलॉजी, अमेरिकन इंस्टीट्यूट ऑफ इंडियन स्टडीज, गुड़गांव
  • अपीजय इंस्टीट्यूट ऑफ मास कॉम्युनिकेशं, द्वारका (दिल्ली) – सोशल मीडिया कैंपेन पार्टनर के रूप मे;
  • युपीइस यूनिवर्सिटी, देहरादुन
  • एवं ऑल इंडिया मीडिया कांफ्रेंस (AIMC)

रूपायन संस्थान के सचिव श्री कुलदीप कोठारी ने बताया कि दो दिवसीय आयोजन में 12 प्रसिद्ध विद्वानों द्वारा पैनल चर्चा, पारंपरिक लोक संगीतकारों और नर्तकियों द्वारा सांस्कृतिक प्रदर्शन, क्षेत्रीय झाड़ू प्रदर्शनी और अरना झरना: थार मरुस्थल संग्रहालय, जोधपुर में वर्चुअल म्यूजियम टूर शामिल होंगे। । श्री कोठारी ने कहा कि जैसा कि हम जानते हैं कि स्वदेशी कला और शिल्प विलुप्त होते जा रहे हैं और हाल ही में महामारी ने लोक प्रदर्शन करने वाले कला समुदायों को गरीबी के किनारे पर ला दिया है। इसलिए, इस आयोजन का उद्देश्य हमारे देश की अमूर्त सांस्कृतिक विरासत के महत्व के बारे में लोगों में जागरूकता पैदा करना है।

Kalyan Singh Kothari
2/633, Jawahar Nagar
Jaipur  302 004. India
Tel.  91-141-2654543
Mobile - 9414047744
%d bloggers like this: