News Ticker

“सुरीले पल” में हृदयस्पर्शी नगमों का सुरीला सफर हुआ साकार

स्वर साधना ग्रुप की प्रथम वर्षगांठ पर कार्यक्रम आयोजित

जयपुर। स्वर-साधना द्वारा अपनी प्रथम वर्षगांठ के अवसर पर महावीर स्कूल के सभागार में हृदयस्पर्शी फिल्मी गीतों के संगीत के कार्यक्रम “सुरीले पल” का आयोजन किया गया। इस सुरीली शाम में हिंदी सिनेमा के साठ के दशक से लेकर आज तक के दौर तक का लंबा सफर तय किया गया, जिसमें साधकों ने जाने-माने पार्श्व गायकों किशोर कुमार, लता मंगेशकर, मोहम्मद रफी, मन्ना दे, हेमंत कुमार, आशा भोंसले, मुकेश, यशुदास, रेखा भारद्वाज और आरडी बर्मन के गीतों से श्रोताओं को मंत्रमुग्ध कर दिया। कार्यक्रम के मुख्य अतिथि नवीन जैन, शासन सचिव, श्रम कौशल नियोजन एवं उद्यमिता, विशिष्ट अतिथि सुनील नाटाणी, व्यवसायी एवं कलाकार, अभय जोशी, अध्यक्ष पिंकसिटी प्रेस क्लब, राजीव प्रमिला भट्ट, संगीतज्ञ, राजेन्द्र मोहन शर्मा, प्रिंसिपल, महावीर स्कूल तथा ओ.पी. गुप्ता, प्रिंसिपल, माहेश्वरी स्कूल थे ।

ग्रुप के संस्थापक के. के. ठाकोर व कार्यक्रम आयोजक डॉ संकल्प कुलश्रेष्ठ ने बताया कि इस ग्रुप का उद्देश्य जयपुर के नये उभरते हुए कलाकारों की गायन कला को निखारकर उन्हें मंच प्रदान करना तथा भविष्य में सामाजिक सहयोग प्रदान करना है। पटकथा लेखक, निर्देशक व मंच संचालक अरविन्द पारीक तथा सह-मंच संचालन अपर्णा बाजपाई की मनमोहक आवाज़ों ने श्रोताओं को कार्यक्रम के हर पल से बांध कर रखा। कार्यक्रम में के.के. ठाकोर, डॉ संकल्प कुलश्रेष्ठ, कैलाश सोलंकी, पूनम शर्मा, मनीष बत्ता, समीर सैन, धर्मेंद्र उपाध्याय, डॉ वी. वेंकटेश, सुधीर शर्मा, जेपी रामावात, अतुल माथुर, एस. डी. माथुर, रजनी ठाकोर, डॉ सुगंधा कुलश्रेष्ठ, सीमा लालवानी, प्रीति जोशी, सीमा सैन, अथर्वा, रेवती और दक्षा अग्रवाल आदि कलाकारों ने अपनी मनमोहक कला से अमित छाप छोड़ी।

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

%d bloggers like this: