News Ticker

पृथ्वीराज नगर में लोगों ने मनाई खुशियां

तकरीबन दो दशक  से अटके पृथ्वीराज नगर के मामले को कैबीनेट की मंजूरी मिल गई। कभी कोर्ट की तारीख तो कभी सरकार की ढिलाई के कारण पृथ्वीराज नगर के नियमन का मामला अटकता चला आ रहा था। बुधवार को मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने पृथ्वीराज नगर के नियमन का मसौदा घोषित किया। कैबिनेट बैठक में क्षेत्र के जल्दी से जल्दी विकास को प्राथमिकता दी गई। नियमन के लिए अलग अलग स्लैब बनाए गए हैं। भूखंडों के आकार के हिसाब से नियमन शुल्क रखा गया है।
रिहायशी और कॉमर्शियल की दरें अलग अलग रखी गई हैं। एक हजार वर्ग गज से अधिक साइज के भूखंड सरकार को सरेंडर करने होंगे, जिन्हें बाद में पच्चीस प्रतिशत के हिसाब से विकसित भूमि दी जाएगी। आवासीय श्रेणी में 100 वर्ग गज तक के भूखंडों के आबंटन के लिए 60 रुपए प्रति वर्ग गज शुल्क देना होगा। 101  से 300 वर्ग गज तक पर 100 रुपए प्रति वर्ग गज का चार्ज वसूला जाएगा।  इसके अतिरिक्त सभी प्लाट पर 30 रुपए प्रति वर्ग गज प्रशासनिक शुल्क भी वसूला जाएगा, जो आगे चलकर इलाके के विकास में काम आएगा।

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

%d bloggers like this: